“प्यारा सा लम्हा”


मेरी अपनी कविता “प्यारा सा लम्हा” मेरी पसंन्दिदा कविता भी है। यहॉं मैं ईस कविता का एक भाग ही मुद्रित् (प्रकाशित्) कर रह हूँ। यह् कविता मैने सन 1999 के अक्तुबर मास् में लिखी थी।


यदि आप ईस कविता को कहीं प्रकशित् करना चाहते हैं तो क्रिप्या मुझे सप्रंक करके मेरी स्वीकारीता प्राप्त् करें। यह बौद्धिक संपति के अधिकार् के अन्तरगत् अनिवार्य है।

!! प्यारा सा लम्हा !!
………………………..Oct 8th, 1999

आज दिल की गहराईयों से,
मन की उमंगो तक,
कोई नाम ढूंढ रहा हूँ,
ईक पहिचान ढूंढ रहा हूँ,
ईक प्यारा सा लम्हा बुन रहा हूँ।

……………………..

चेहरे की रंगत नयारी सी,
होथों की मुसकान प्यारी सी,
ईक याद दिवानी सी, ढूंढ रहा हूँ।

आज दिल की गहराईयों से,
मन की उमंगो तक,
कोई नाम ढूंढ रहा हूँ,
ईक पहिचान ढूंढ रहा हूँ,
ईक प्यारा सा लम्हा बुन रहा हूँ।

……………………..

………. परम लौ

Author: Param Lowe

SixthSense India ! Q. What is sixthsense? A. Sixth Sense is evolved or developed sensory power of mind. I am the real living example of SixthSense in humans. Wanna learn how to develop sixth sense? Join Param Lowe's online webcast starting April 2012. The fee of joining is USD 9045.00. send email to sixthsense@parmlowe.com

1 thought on ““प्यारा सा लम्हा””

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *