1 2 »

Blissfull Joy आनन्द प्रसाद ਅਂਨਦਪ੍ਰਸਾਦ

ਖੇਡ ਖੇਡੇ ਖਿਡਾਰੀ, ਖੇਡੇ ਮਨ ਦਿਆਂ ਖੇਡਾਂ|
ਨਾ ਜੀਤੇ ਨਾ ਹਾਰੇ, ਬਖਸ਼ੇ ਅਂਨਦਪ੍ਰਸਾਦ||

खेल खेले खिलाडी, खेले आनन्दमन के खेल,
ना जीते, ना हारे, बांटे आनन्द प्रसाद॥

Blissfull Joy !!
The Lord of joy play games of joy,
simple game to amuse his devotee,
no win, no loss, just gives joy and joy,
so beautiful is His tender face,
He is a face of joy and happiness,
the lovely Lord plays, game of joy..
……………Param Lowe

Video: God’s Messages for this World 2008

The messages, I perceive through divine communication when there is only one way communication. In those moments, when I don’t ask Continue reading “Video: God’s Messages for this World 2008”

मोबाइल से हो सकता है मुंह का कैंसर

लंदन, आईएएनएस :
मोबाइल फोन के बेहिसाब इस्तेमाल से कई तरह की बीमारियां होने की बात कही जाती रही हैं, लेकिन एक ताजा शोध से पता चला है कि मोबाइल से घंटों चिपके रहने की आदत मुंह में कैंसर जैसी बीमारी को भी दावत दे सकती है। शोध से निष्कर्ष निकला है कि मोबाइल फोन का पांच साल तक बेहिसाब इस्तेमाल करने वाले लोगों में ट्यूमर विकसित होने का खतरा उन लोगों के मुकाबले 50 फीसदी अधिक होता है, जो इसका इस्तेमाल नहीं या कम करते हैं। मोबाइल और कैंसर के संबंधों को लेकर पहले भी कई Continue reading “मोबाइल से हो सकता है मुंह का कैंसर”

जीवन में कभी कुछ गलत किया हो

हरि क्रिष्णा

किस कारण मन गलानि अनुभव करता है?
जीवन के पथ पर् हम कई उच्चाईयों और निचाईयों के पथिक बनते है, यदि तुम्हे कभी लगे कि कुछ गलत किया है तो गलानि मत अनुभव करना, हाँ भविष्य में उस कर्म को ना दोहराओ, बस ईतना धयान रखो। यहां संसार में कोई मनुश्य ऐस नही है, जो कभी पतित ना हुआ हो, कोई जीवित मनुश्य ऐस नही है जिसमें काम, क्रोध, लल्साह् न हो | केवल एक बात धयान में रखो कि चाहे तुम किसी भी हालत में हो, किसी भी स्थिति में हो, श्री क्रिष्ण तुम्हे स्विकार करते हैं” तुमने केवल आश्र्य् की प्रार्थन करनी है।
!! जेय श्री क्रिष्ण !!

Jivan ke path par hum kai uchchaee or nichaee ke pathik bantey hai, Yadi tumhe kabhi lagey ki kuch galat kiya hai to glani mat anubav karna hann bhavishaya mein us karama ko na dohraoo bas itna dhayan rakho. yahan sansaar mein koi manushya aisa nahi hai jo kabhi patiti na hua ho. Koi jivit manushya aisa nahi hai jisme kaam, Krodha, lalsah na ho. Remmeber one thing “in any form, in any situation you are acceptable to Shiri krishna.” just ask for his mercy.
Jai Shiri Krishna…
.
.

पीजी लड़कियों के बाथरूम में कैमरे से नजर

पीजी के बाथरूम में कैमरे की नजर
भास्कर न्यूज
Friday, August 31, 2007 05:31 [IST]

spy camera in girls bathroomचंडीगढ़: सेक्टर- ३८ (36) की आलीशान कोठी नंबर-३५२७। इसमें कई दिन से चल रहा था लड़कियों का पीजी और इसके बाथरूम में लगा था क्लोज सर्किट टेलीविजन (सीसीटीवी) कैमरा। कैमरे को थर्माकोल से ऐसे छिपाया गया था कि किसी की नजर न पड़े।

पीजी में रह रही थी दो लड़कियां :
पीयू में फ्रेंच एंड इंग्लिश का कोर्स करने वाली दो लड़कियां २८ अगस्त से इस पीजी में रह रही थीं। एक मोगा (पंजाब) के बागा पुराना की रहने वाली है तो दूसरी कोटकपूरा की। दोपहर में जब एक लड़की बाथरूम में नहाने गई तो उसने शावर के ऊपर छत पर कैमरा लगा पाया। उसने अपने परिजनों को घर से बुला लिया। परिजनों की मौजूदगी में लड़की ने थाना-३९ में फोन कर जानकारी दी।

पुलिस ने कोठी की तीसरी मंजिल में रहने वाली पीजी युवतियों का बाथरूम चेक किया, तो वहां सीसीटीवी कैमरा लगा पाया। कैमरा चेक किया तो वह ऑन था। पुलिस ने कैमरे को कब्जे में लिया और लीड के जरिए उस टीवी तक पहुंची जहां तस्वीरें रिले होती थी। पुलिस ने टीवी को भी कब्जे में ले लिया। पुलिस पीजी संचालक रमनीक शर्मा, से.-१५ के बिजली मकैनिक रूपिंदर, रमनीक के कजन मुनीष को दबोचकर थाने ले आई।

फोन पर बयान के आधार पर मामला दर्ज :
थाने में लड़की के परिजन दबाव के चलते शिकायत देने से कतराने लगे। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए लड़की के फोन पर दिए बयानों के आधार पर कोठी मालिक रमनीक शर्मा पर मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। पुलिस मुनीष और रूपिंदर से पूछताछ कर रही थी। दोनों को गिरफ्तार नहीं किया गया।

पीजी की जानकारी, पुलिस के पास नहीं!
कोठी नंबर-3527 में पीजी चल रहा था, पर इसकी जानकारी पुलिस फाइल से मिसिंग है। पुलिस यह स्पष्ट करने से कतरा रही है कि डीसी के आदेशों के तहत पुलिस में इस पीजी की जानकारी दी गई थी या नहीं?

शायद् नाथ शरन में मिले स्थान ||

हे क्रिष्ण सेवक,
अभी मैं ईतना उध्दगम नहि हुआ
कि आश्रय श्री क्रिष्ण प्रेम क मागं सकूं
मैं तो मागूं शरन प्रभु की,
चहून् चरन् शपर्ष प्रभु के,
अब तो वो भी नहि मिले,
हे सेवक! मुझे याद करो,
हे सेवक! मेर नाम् पुकरो,
शायद् नाथ शरन में मिले स्थान
……………………….
…………. परम लौ

Hey Krishna Sevak
abhi main itna udgam nahi hua
ki ashraya Shiri krishna prem ka maang sakoon
main to mangoo sharanah …
chahoon charan shparsha…
ab to vo bhi nahi miley…
hey sevak mujey yaad karo
mera naam pukaro
shayad naath sharan mein mile sthaan

“प्यारा सा लम्हा”


मेरी अपनी कविता “प्यारा सा लम्हा” मेरी पसंन्दिदा कविता भी है। यहॉं मैं ईस कविता का एक भाग ही मुद्रित् (प्रकाशित्) कर रह हूँ। यह् कविता मैने सन 1999 के अक्तुबर मास् में लिखी थी।


यदि आप ईस कविता को कहीं प्रकशित् करना चाहते हैं तो क्रिप्या मुझे सप्रंक करके मेरी स्वीकारीता प्राप्त् करें। यह बौद्धिक संपति के अधिकार् के अन्तरगत् अनिवार्य है।

!! प्यारा सा लम्हा !!
………………………..Oct 8th, 1999

आज दिल की गहराईयों से,
मन की उमंगो तक,
कोई नाम ढूंढ रहा हूँ,
ईक पहिचान ढूंढ रहा हूँ,
ईक प्यारा सा लम्हा बुन रहा हूँ।

……………………..

चेहरे की रंगत नयारी सी,
होथों की मुसकान प्यारी सी,
ईक याद दिवानी सी, ढूंढ रहा हूँ।

आज दिल की गहराईयों से,
मन की उमंगो तक,
कोई नाम ढूंढ रहा हूँ,
ईक पहिचान ढूंढ रहा हूँ,
ईक प्यारा सा लम्हा बुन रहा हूँ।

……………………..

………. परम लौ

करोड़पति के पास ई-मेल आई डी नही है ।

एक बेरोजगार ने माएक्रोसोफ्त कम्पनी मे आफिस बॉय के लिय आवेदन दिया । एच आर मेनेजर ने बतोर टेस्ट उससे फर्स साफ करवाया और रख लिया और कहा तुम्हारी नोकरी पक्की । अपना ई -मेल आई डी दे दो , तो तुम्हे आवेदन पत्र भेज दिया जाएगा , जिसे भरकर वापस कर देना । तुम्हे फोरन नोकरी जवाएन करने की तारीख भी दी जायेगी । “लेकिन मेरे पास न तो कम्पूटर है और न ही कोई ई-मेल आई डी।” ई मेल आई डी नही है इसका मतलब तुम्हारा कोई वजूद नही ,उसे जॉब केसे मिल सकता है ? निरास होकर बाहर आया उसकी जेब मे $ १० डालर थे । काफी देर सोचने के बद वह सुपर मार्केट से टमाटर का ख़रीदे और उन्हें बेचने निकल पडा कुछ ही देर मे उसके सारे टमाटर बिक गये । जिससे उसकी रकम दुगनी हो गई फिर टमाटर ख़रीदे इस तरह शाम तक उसकी रकम $ ६० जमा हो गये । मेहनत रंग लाई उसने एक धेला खरीदा फिर Continue reading “करोड़पति के पास ई-मेल आई डी नही है ।”

भारतीय फुटबॉल टीम की जीत

जीत के बाद फुटबॉल टीम ने दिखाई एक नई राह

ओएनजीसी नेहरू कप जीतने के बाद भारतीय फुटबॉल टीम ने एक बार फिर टीम को एक नयी राह दिखाने का काम किया है। भारतीय कप्तान बाईचुंग भूटिया के प्रदर्शन ने टीम को एक खास ऊर्जा प्रदान की है। इस जीत से टीम का आत्मविश्वास भी बढ़ा है। बुधवार की रात अम्बेडकर स्टेडियम में सीरिया के साथ खेले गए इस मैच में भारतीय टीम का हर खिलाड़ी एक नए जोश के साथ मैदान में नजर आया। कप्तान भूटिया के अलावा सभी खिलाड़ी आत्मविश्वास से लबालब नजर आ रहे थे।